बालू खनन से पूरी नदी में डूबे गड्ढे में डूबने से युवक की मौत

Spread the love

गया: शेरघाटी शहर के मिल्की बाग मोहल्ला के गोरा यादव नामक लगभग 35 वर्षीय युवक का सोमवार को बालू खनन से उभरे बुढ़िया नदी के गड्ढे में डूबने से मौत हो गई। लगभग 2 घंटे के प्रयास के बाद स्थानीय लोगों से वार्ता के कर एसडीओ अनिल कुमार रमन एवं एसपी के रामदास के आश्वासन पर ते को पोस्टमार्टम केे लिए मगध मेडिकल अस्पताल भेजा गया। अधिकारियों ने मृतक आश्रित को मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष से 5 लाख की मुआवजा राशि के लिए अनुशंसा करने का आश्वासन दिया है। तत्पश्चात स्वजन के द्वारा पोस्टमार्टम के लिए शव ले जाया गया। मृतक के चार नाबालिग बच्चे हैं। अचानक बेेवा हुई पत्नी और बूढ़ी मां दहाड़ मार मार कर घटनास्थल पर रो रही थी। पत्नी रह रह कर अचेत से जैसे ही चेतना में आती अपने पति से लिपट ते हुए उसे वापस बुलाने की करुण गुहार लगाती। माहौल पूरी तरह गमगीन है। मोहल्ले वासी प्रशासन पर अवैध तरीके से बालू खनन कराने का आरोप लगाते हुए गुस्से का इजहार करते हैं। प्रशासन चुपचाप उनके भावना को समझते हुए आगे की कार्रवाई करती है। बिलखते स्वजन ने बताया कि दोपहर में मृतक शौच के बाद अपदश करने के लिए नदी के गड्ढे के समीप गया जहां पैर फिसलने से लगभग 20 फीट गड्ढे पानी में चला गया जिससे उसकी मौत हो गई। घर के स्वजन घर नहीं पहुंचने के बाद खोजबीन करने लगे तो आसपास में जानवर चरा रहे लोगों ने बताया कि एक आदमी शौच के बाद अपदष करने गया था जो नहीं दिख रहा है। अनुमान के आधार पर स्थानीय युवक गुड्डू पांडे ने प्रयास करके मृतक युवक को गड्ढे के पानी से बाहर निकाला। उसके बाद स्वजन शव बाहर आते ही चीख-पुकार करने लगे। अब स्थानीय लोग प्रशासन से बालू खनन करने वाले ठेकेदार के विरुद्ध कार्रवाई करने की मांग को लेकर शव को उठने नहीं दे रहे थे। उल्लेखनीय हो कि नदी के इस गड्ढे में इसके पूर्व भी डूबने से दो लोगों की मौत हो चुकी है। स्थानीय लोगों का मानना है कि यह मौत का गड्ढा बनता जा रहा है। इसे समतलीकरण कराया जाना आवश्यक है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *